Sunday, February 25, 2018
Home > सेहत की बाते > लौकी के फायदे जान कर हैरान रह जाओगे

लौकी के फायदे जान कर हैरान रह जाओगे

लौकी के फायदे

लौकी के फायदे

लौकी को एक सब्जी के तरह उपयोग किया जाता है और यह सारे विश्व में उपयोग की जाने वाली चीज है लगभग हर देश में यह उपलब्ध हो जाती है लौकी का जूस भी बहुत लाभदायक होता है”लौकी के फायदे”

आयुर्वेद में तो इसे अमृत बताया गया है वास्तव में लौकी है भी अमृत के सामान तो चलिए जानते है लौकी के फायदे।

लौकी को उपयोग कैसे करे।

यदि इसके उपयोग की बात की जाये तो लौकी को ज्यादातर लोग छील कर उपयोग करते है पर यदि लौकी साफ है तोआप उसे केवल तेज गर्म पानी से धो ले और इसका उपयोग बिना छीले ही करे।

इसका कारण यह है की छिलके के नीचे ज्यादातर पोषक तत्व मौजूद होते है जो छिलके के साथ निकल जाते है।

नोट— कभी भी कड़वी लौकी का उपयोग न करे उपयोग से पहले एक छोटा टुकड़ा चख कर देखे यदि वो कड़वा हो तो कभी भी उपयोग न करे।

दिल्ली में TFRI के एक वैज्ञानिक की मौत कड़वी लौकी खाने से हुई थी यह जहरीली होती है ।

किन किन रूप में लौकी का उपयोग कर सकते है।

1.लौकी का जूस-

जूस के रूप में लौकी का उपयोग करना सबसे बेहतर होता है

आज यदि सुबह इसका जूस पीते है तो बहुत अच्छा है पर रात को इसका जूस न पिए क्योकि यह ठंडा होता है

2 .सब्जी –

इसका उपयोग सामान्य तोर पर सभी के घर पर होता है पर इस पर मसलो का उपयोग अधिक न करे।

3खीर-

यह भी एक अच्छा विकल्प है चावल और दूध के साथ ये और भी लाभदायक हो जाता है।

4कोफ्ता-

यह स्वादिस्ट तो होता ही है साथ ही बच्चे भी इसे पसन्द करते है।

5 कलाकंद –

इसे लौकी का हलुआ भी कहते है।

6लौकी का सूप –

आप इसका सूप भी बना कर ले सकते है।

ये भी पढ़े :- स्वामी विवेकानन्द की प्रेरक कहानी

लौकी के फायदे

1.तरोताजा –

लौकी के भारी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाये जाते है दरअसल आप ने ऐसी कई दवाओ के प्रचार देखे होंगे जो आप को दिन भर तरोताजा रखने की बात कहते तो उन दवाओ में भी एंटीओक्सिडेंट ही होते है और लौकी में ये प्राकतिक रूप से उपलब्ध होते है

यदि आप प्रतिदिनसुबह एक या आधा ग्लास लोकी का जूस पीते है तो आप को ऐसी कोई भी दवाई लेने की जरुरत नहीं है

2.पानी की कमी –

लौकी में कितना पानी होता है यह बताने की जरुरत नहीं हैऔर यदि आप ज्यादा टाइम धुप में रहने का काम करते है तो ये आप को निर्जलीकरण से भी बचाती है।

3.शीतलता –

लौकी का तासीर ठंडा होता है और इसलिए इसे रात में न खाने या जूस न पीने की सलाह दी जाती है

पर गर्मियों में लौकी का जूस किसी और पेय से ज्यादा बेहतर है

4एनीमिया –

एनीमिया के इलाज में लौकी बेहद कारगर है रोज सुबह खाली पेट एक गिलास लौकी के जूस में एक सेव का जूस मिला कर पीने से एनीमिया दूर हो जाता है।

5.कफ के रोग में-

जिनको कफ है वो लौकी के जूस में काली मिर्च मिला कर पिए लाभ होगा।

6.पेट की समस्याऐ-

पेट की समस्याए जैसे अम्लपित्त,गैस,अपच, में लौकी रामबाण है आप जयादा से ज्यादा सेवन कर इन समस्याओ से निजात प्राप्त कर सकते है।

7.स्वप्नदोष से मुक्ति-

लौकी उत्तेजना को शांत करती है और इसके इसी गुण के कारण यह स्वप्नदोष से पीड़ित व्यक्तियो को भी लाभ देती है।

8.पेशाब में जलन-

पेशाब में जलन का मुख्य कारण मूत्र में अम्ल की मात्रा का बढ़ जाना है । लौकी इसी अम्ल को कम या संतुलित करती है और पेशाब करने में जो जलन होती है उस से मुक्ति मिल जाती है।

9.रुक रुक कर पेशाब आना-

इस समस्या में भी लौकी हितकारी है

10.-बालो का झड़ना और सफ़ेद होना-

बालो के झड़ने और सफ़ेद होने का मूल कारन पित्त का बढ़ जाना होता है और जैसा में पहले भी बता चूका हु लौकी पित्त को संतुलित करती है और इससे बालो की समस्या से निजात मिलती है।

11.पेट का अल्सर –

पेट के अंदर अल्सर यानि फोड़े होने पर लौकी अमृत के सामान काम करती है।रोज सुबह एक गिलास लौकी का जूस जल्द ही समस्या से निजात दिला सकता है

12.दिल की बीमारी –

लोकी रक्त में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को कम करती है और दिल से सम्बंधित सभी बीमारियो का मूल कोलेस्ट्रोल ही है इस तरह यह हार्ट डिसिजिस् से भी बचाता है।

13.मोटापा-

आज दुनिया भर के ज्यादातर लोग इस समस्या से परेशान है यही कई घातक बीमारियो को आमंत्रण भी  है ऐसे में लौकी ऐसी चीज है जो बिना मेहनत मोटापे से मुक्ति दिला सकता है।

इसमें फाइबर भी अछी मात्रा में होता है जिससे इसे लेने के बाद काफ़ी देर तक भूख नहीं लगती और जिससे मोटापा कम होता है।

14-इसके अलावा किडनी की समस्या में त्वचा को सुन्दर बनाने में भी यह बहुत लाभ करी है।

तो सो बात की एक बात यही है की लौकी ईस्वर का दिया का वरदान है इसलिए तो ये सब्जियों का राजा है।

लौकी के फायदे- bottle gourd in hindi

नोट- इस पोस्ट में दी गई जानकारियां विभिन्न माध्यमो से एकत्र की गई है जो केवल जन जागरूकता के लिए है आप बीमारी के अनुरूप वैध की सलाह जरूर ले।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *