Sunday, August 19, 2018
Aryavart india > Uncategorized > सत्य क्या है, Satya Kya hai

सत्य क्या है, Satya Kya hai

सत्य क्या है

सत्य क्या है

“सत्य क्या है” सत्य के बारे में सब जानते हैं परंतु सत्य को कुछ लोग ही जानते हैं क्योंकि जिस दिन मनुष्य सत्य को जान लेगा उस दिन से मनुष्य के अंदर से काम क्रोध मोह लोभ अहंकार अपने आप नष्ट हो जाएंगे इसलिए संत कबीर ने कहा है सांच बराबर तप नहीं झूठ बराबर पाप जाके हृदय सांच है ताके हृदय हरिआप ।

अर्थात इस संसार में सत्य की राह चलने के बराबर कोई तपस्या नहीं है और झूठ बोलने जैसा कोई पाप नहीं है और जो सत्य की राह चलता है उसके हृदय में ईश्वर स्वयं निवास करते हैं जिसके हृदय में ईश्वर स्वयं निवास करें उसके अंदर काम क्रोध मोह लोभ अहंकार आ ही नहीं सकता इसलिए हर मनुष्य को झूठ बोलने जैसा पाप नहीं करना चाहिए यदि कोई मनुष्य झूठ बोलता है तो वह कितनी भी पूजा पाठ क्यों ना कर ली पर उसका फल उसे नहीं मिलता है बिना पूजा पाठ के केवल सत्य बोल कर भी ईश्वर को अपने हृदय में बसाया जा सकता है ।”सत्य क्या है”

सत्य का मार्ग कठिन जरूर है इसमें परेशानियां आती है परंतु अंत में विजय सत्य की ही होती है इसलिए हमें सदैव सत्य के मार्ग पर ही चलना चाहिए।

 लेखक – प्रदीप कुमार पटेल 

तो दोस्तों उम्मीद है की हमारे द्वारा दी गई जानकारीय आप को पसंद आई होगी इस तरह की और जानकारीयो के लिए आप हमारी वेबसाइट पर आते रहिये हमारे आर्टिकल पढ़ते रहिये |

साथ ही हमारे फेसबुक पेज को भी जरुर लाईक करे  वीडियोस के लिए हमारे youtube channel  को सुब्स्क्रिब भी जरुर करे हम हमेशा कोसिस करते है आप तक सही सटीक और ज्ञानवर्धक जानकारीय पहुचने की यदी सत्य के ऊपर ये जानकारी पसंद आई है तो दोस्तों तक पहुचने के लिए सोशल मीडिया पर शेयर भारर जरीर जार दे  | 

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आप का धन्यवाद 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *